विरासत और विकास की थीम पर होगा प्रयागराज रेलवे स्टेशन का विकास, वर्ल्ड क्लास हाईटेक एयरपोर्ट जैसी मिलेंगी सुविधाएं

विरासत और विकास की थीम पर होगा प्रयागराज रेलवे स्टेशन का विकास, वर्ल्ड क्लास हाईटेक एयरपोर्ट जैसी मिलेंगी सुविधाएं

Newspoint24/newsdesk/एजेंसी इनपुट के साथ 

प्रयागराज। तीर्थराज प्रयागराज के रेलवे स्टेशन को वर्ल्ड क्लास हाईटेक एयरपोर्ट जैसा बनाया जाएगा। इस स्टेशन को 859 करोड़ रुपये की लागत से तैयार किया जाएगा जो देश-दुनिया के सबसे खूबसूरत स्टेशन में शामिल होगा।

इसको लेकर तैयारियां भी शुरू कर दी गई हैं। बताते चलें कि ढाई साल बाद संगम नगरी प्रयागराज में कुम्भ मेले का आयोजन किया जाएगा और उससे पहले रेलवे स्टेशन के कायाकल्प का अधिकांश काम पूरा करने का लक्ष्य तय किया गया है।

प्रयागराज में ढाई साल बाद लगने वाले कुंभ मेले से पहले शहर को चमकाने की तैयारी ज़ोर-शोर से शुरू हो गई है। इसके तहत जहां शहर में विकास के तमाम काम कराए जा रहे हैं तो वहीं प्रयागराज के रेलवे स्टेशन का पूरी तरह से कायाकल्प किया जाना है।

रेलवे का फोकस इस बात पर भी है कि 859 करोड़ रुपये खर्च करने के बाद प्रयागराज रेलवे स्टेशन देश ही नहीं बल्कि दुनिया के सबसे खूबसूरत और भव्य स्टेशनों में नज़र आए।

रेलवे ने इसके लिए अभी से अपनी तैयारियां भी शुरू कर दी हैं और इसका टेंडर निकाला जा चुका है। जल्द ही इसके निर्माण का काम भी शुरू हो जाएगा।

पूरे रेलवे स्टेशन को चरणबद्ध तरीके से पूरा होने में चार साल से ज़्यादा का वक़्त लगना है , हालांकि रेलवे इस बात की तैयारी में है कि ज़्यादा से ज़्यादा काम कुंभ मेले से पहले पूरा हो जाए, ताकि मेले में देश-विदेश से आने वाले श्रद्धालु रेलवे स्टेशन की भव्यता और ख़ूबसूरती से रूबरू हो सकें. रेलवे स्टेशन का कायाकल्प विरासत और विकास की थीम पर किया जाना है।

जिससे यात्रियों को प्रयागराज की कला-संस्कृति और विरासत का दीदार तो हो ही सके, साथ ही विकास के पथ पर आगे बढ़ते शहर की झलक भी लोगों को मिल सके।

मिलेंगी वर्ल्ड क्लास सुविधाएं

मीडिया से बातचीत में नार्थ सेंट्रल रेलवे ज़ोन के पीआरओ डॉ. अमित मालवीय ने बताया कि 859 करोड़ रुपये के बजट से सिविल लाइंस और सिटी दोनों ही तरफ नई इमारतें बनेंगी ,जिसके लिए अलग-अलग एंट्री गेट बनाए जाएंगे।

यात्री सुविधाएं इस तरह से मुहैया कराई जाएंगी, जैसी आम तौर पर दुनिया के बड़े एयरपोर्ट्स पर यात्रियों को मिलती हैं। प्लेटफार्म और वेटिंग रूम से लेकर लिफ्ट, एस्केलेटर, शौचालयों और आउटर कैम्पस का कायाकल्प किया जाना है।

स्टेशन पर मिलेगी कला-संस्कृति की झलक

पीआरओ के मुताबिक नार्थ सेंट्रल रेलवे ज़ोन में कानपुर और ग्वालियर स्टेशनों को भी इसी तरह संवारा जाना है लेकिन कुंभ मेले के मद्देनज़र प्रयागराज पर ज़्यादा फोकस किया जा रहा है। मेले से पहले स्टेशन को इस तरह तैयार कर दिया जाएगा कि कुंभ में आने वाले यात्री सुखद एहसास के साथ यहां से वापस जाएं।

Share this story