डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक पर हमले में सीएम योगी आदित्यनाथ ने संभाला मोर्चा, धो डाला अखिलेश यादव को, जानें क्या बोले सीएम  

In the attack on Deputy CM Brajesh Pathak, CM Yogi Adityanath again took over the front, washed Akhilesh Yadav, know what the CM said

समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव ने राज्य की स्वास्थ्य सेवाओं पर सवाल खड़े किए। उन्होंने डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक का नाम लिए बिना उनको छापामार बोला। जिसके बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने सपा प्रमुख पर जमकर पलटवार किया।

मंगलवार को विधानमंडल के मानसून सत्र में विधानसभा में अखिलेश यादव और सीएम योगी आदित्यनाथ के बीच जमकर जुबानी तीर चले। कोई भी किसी से कम नहीं था।

Newspoint24/newsdesk/एजेंसी इनपुट के साथ
 

लखनऊ । उत्तर प्रदेश विधानमंडल के सत्र में समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष तथा नेता प्रतिपक्ष अखिलेश यादव ने एक बार फिर सरकार पर हावी होने का प्रयास किया। इस बार उनके निशाने पर डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक थे।

पाठक पर अखिलेश को हावी होते देख मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक बार फिर मोर्चा संभाला और नेता प्रतिपक्ष को हर बात का तर्क के साथ जवाब दिया।

 इससे पहले बजट सत्र में अखिलेश यादव ने डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य पर हावी होने का प्रयास किया था, तब भी सीएम योगी आदित्यनाथ ने मोर्चा संभाला था।

समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव ने राज्य की स्वास्थ्य सेवाओं पर सवाल खड़े किए। उन्होंने डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक का नाम लिए बिना उनको छापामार बोला। जिसके बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने सपा प्रमुख पर जमकर पलटवार किया।

मंगलवार को विधानमंडल के मानसून सत्र में विधानसभा में अखिलेश यादव और सीएम योगी आदित्यनाथ के बीच जमकर जुबानी तीर चले। कोई भी किसी से कम नहीं था। इनके बीच जुबानी तीर के पांच-पांच प्वाइंट पढ़ें।

अखिलेश यादव के हमले

  • यूपी में डाक्टरों ने इलाज से हाथ खड़े कर लिए हैं, अस्पताल में लापरवाही से लोगों की जान जा रही है। 
  • कन्नौज में अस्पताल में कुत्ते ही कुत्ते दिखे हैं, दवाईयां और मशीनें नहीं है। 
  • झोला छाप डाक्टर इलाज कर रहे हैं, मरीजों की जान जा रही है।
  • मरीज चारपाई पर अस्पताल जा रहे हैं और अस्पतालों में पानी भरा पानी भर जाता है। 
  • मंत्री अस्पतालों में जाते हैं और केवल छापा मारते हैं, छापामार मंत्री के छापों का क्या असर हो रहा है। 

सीएम योगी आदित्यनाथ का जबरदस्त पलटवार
 

  • सपा सरकार के दौरान 2017 से पहले सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र बंद कर दिए गए थे और अस्पतालों में डाक्टर नहीं थे। 
  • जिला अस्पतालों की स्थिति भी दयनीय हो गई थी, ज्यादातर सीएचसी बंद होने के कारगार पर थे। 
  • सपा प्रमुख को बोलते-बोलते बहुत सारी बातें याद आती हैं लेकिन सपने जब तार-तार होंगे तो उसका दुख होता है। 
  • उनकी बातों से वो दुख झलक भी रहा था, लेकिन हमें जनता के फैसलों को स्वीकार तो करना ही पड़ेगा। 
  • नेता प्रतिपक्ष दूसरों को केवल उपदेश देते हैं लेकिन कोरोना महामारी के दौरान पता नहीं वे कहां गए थे, हम लोगों ने तो कभी नहीं देखा। 

 
विधान भवन में मंगलवार को दूसरे पहले अखिलेश यादव ने राज्य की स्वास्थ्य व्यवस्थाओं पर सवाल खड़े किए। जिसके बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने खुद खड़े होकर जवाब दिया। अखिलेश यादव ने जब हावी होने का प्रयास किया तो सीएम योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में 2017 से पहले की स्वास्थ्य सेवा का हाल बता दिया।

यह भी पढ़ें : ओम प्रकाश राजभर बोले नीतीश कुमार से कम नहीं मेरी राजनीतिक हैसियत

 
 

Share this story