नमो घाट (खिड़किया घाट) पर एंट्री टोकन सिस्टम लागू , काशी के किसी घाट पर पहली बार कोई फीस लगाई गई

Entry token system implemented at Namo Ghat (Window Ghat), for the first time any fee was imposed at any ghat in Kashi

Newspoint24/newsdesk/एजेंसी इनपुट के साथ

वाराणसी। स्मार्ट सिटी कंपनी ने मंगलवार से नमो घाट (खिड़किया घाट) पर एंट्री टोकन सिस्टम लागू किया है। अब यहां 10 रुपए देने के बाद ही एंट्री मिलेगी। वो भी सिर्फ 4 घंटे के लिए। काशी के किसी घाट पर पहली बार कोई फीस लगाई गई है। यहां 84 पुराने घाट हैं। किसी पर भी फीस नहीं लगती।

स्मार्ट सिटी कंपनी का ये फैसला विवादों में है। कांग्रेस और सपा ने इसका विरोध किया है। सपा ने इसे मनमानी करार दिया है। सोशल मीडिया यूजर्स भी पूछ रहे हैं कि आजादी के अमृत महोत्सव पर PM नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में ये कैसी परंपरा की शुरुआत की गई है...?

यूपी में राशनकार्ड धारकों को मुफ्त राशन और रिफाइंड, नमक, चना का वितरण अब 5 अगस्त से

टूरिज्म का नया सेंटर है नमो घाट
वाराणसी में 84 घाट हैं। इससे इतर राजघाट के मालवीय पुल के पास 35.83 करोड़ की लागत से नमो घाट (खिड़किया घाट) का फेज-1 तैयार किया गया है। अब ये काशी में टूरिज्म का नया सेंटर बन गया है। बीती 7 जुलाई को PM नरेंद्र मोदी वाराणसी आए थे। उन्हें नमो घाट को जनता को सौंपना था।

हालांकि, अंतिम समय में इसे लोकार्पण की लिस्ट से बाहर कर दिया गया था। PMO से कहा गया था कि घाट को डेवलपमेंट के सभी काम जब पूरे हो जाएंगे तभी लोकार्पण होगा। आधे-अधूरे काम का लोकार्पण PM नहीं करेंगे।

यह भी पढ़ें :   यूपी में राशनकार्ड धारकों को मुफ्त राशन और रिफाइंड, नमक, चना का वितरण अब 5 अगस्त से

Share this story