बांदा: प्रशासन ने तेरह माह बाद भी नहीं ली दिव्यांगों की सुध, कलेक्ट्रेट में की नारेबाजी

बांदा: प्रशासन ने तेरह माह बाद भी नहीं ली दिव्यांगों की सुध, कलेक्ट्रेट में की नारेबाजी

Newspoint24/newsdesk/एजेंसी इनपुट के साथ

बांदा। दिव्यांगों ने पूर्व में दिये अपने 6 सूत्रीय मांग पत्र का तेरह माह बाद भी निराकरण न होने से निराश होकर कलेक्ट्रेट में नारेबाजी के साथ प्रदर्शन किया।

मांग की है कि दिव्यांगों के अंत्योदय राशनकार्ड एक माह के भीतर जांच की कार्यवाही पूरी कराई जाये, ताकि उन्हें कोटे से राशन मुहैया हो सके। राष्ट्रीय विकलांग पार्टी ने कलेक्ट्रेट में अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन किया।

जिलाधिकारी को सौंपे ज्ञापन में दिव्यांगों ने अवगत कराया कि उन्होंने अपनी 6 सूत्रीय मांग पत्र के समर्थन में विगतक पहली अक्टूबर से लेकर 6 अक्टूबर 2021 तक धरना-प्रदर्शन किया था।

तत्कालीन जिलाधिकारी ने एक माह के भीतर समस्याओं के समाधान का आश्वासन दिया था, जिस पर वे मान गये थे, लेकिन तकरीबन 13 माह गुजर जाने के बाद भी समस्याएं जस कि तस बनी हैं। इनमें से एक भी समस्या का निराकरण नहीं किया गया।

दिव्यांगों ने ज्ञापन में अपनी व्यक्तिगत तमाम समस्याओं से भी अवगत कराते हुए बताया कि दिव्यांग समाज की कमजोर कड़ी हैं, जो शारीरिक रूप से अक्षम होने के साथ ही आर्थिक रूप से भी टूटे हुए हैं।

दिव्यांग अपने लिये खुले बाजार से राशन का इंतजाम नहीं कर पाते, इसलिये उनकी मांग है कि एक माह के भीतर उनके अंत्योदय राशन कार्ड जांच करवाकर कार्यवाही करवाई जाये।

अन्यथा की स्थिति में उन्हें मजबूर होकर आंदोलनात्मक कदम उठाना पड़ेगा। इस अवसर पर दिव्यांग श्रीराम प्रजापति, सुखलाल, भगवानदीन, जगदीश प्रसाद, अनिल, राजबहादुर, दिनेश यादव, वासुदेव गुप्ता, भरतलाल कुशवाहा, रामखिलावन, कमतू प्रसाद, संतोष, संतोष कुमार, बल्लू, मदनमोहन आदि मौजूद रहे।

Share this story