लखीमपुर में अनियंत्रित होकर कार पलटने से 5 की मौत, 7 गंभीर रूप से हुए घायल, JCB की मदद से निकाली गई गाड़ी

लखीमपुर में अनियंत्रित होकर कार पलटने से 5 की मौत, 7 गंभीर रूप से हुए घायल, JCB की मदद से निकाली गई गाड़ी

Newspoint24/newsdesk/एजेंसी इनपुट के साथ

लखीमपुर खीरी। उत्तर प्रदेश के जिले लखीमपुर खीरी में मंगलवार को बड़ा सड़क हादसा हो गया। मंगलवार की सुबह तेज रफ्तार कार अनियंत्रित होकर बड़े नाले में पलट गई।

इस हादसे में पांच लोगों की मौके पर मौत हो गई जबकि सात घायल है। इस हादसे के दौरान कुल 12 लोग एसयूवी कार में सवार थे। इस हादसे में पलिया रेलवे क्रॉसिंग के पास हुआ है। पुलिस ने शवों को कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है और सभी घायलों को तुरंत  सीएचसी ले जाया गया। वहां उनका इलाज जारी है। 

सड़क किनारे गड्ढे में फंस गई थी कार

शुरुआती जांच में शाहजहांपुर से पलिया की तरफ आ रही थी। मंगलवार की सुबह यह हादसा पांच बजे के आसपास भीरा पलिया स्टेट हाईवे पर हुआ है। कार की स्पीड बहुत ज्यादा थी और ऐसे में अचानक कार सड़क किनारे गड्ढे में फंसकर पलट गई पलट गई।

पांच लोगों की मौत में राजकिशोर, उमेश, विनय, हरनाम चंद, मनीउल्ला खां के तौर पर शिनाख्त हुई है। ऐसा बताया जा रहा है कि मरने वालों में से तीन लेबर और दो टीचर थे। सूचना पर पहुंचे ग्रामीणों और पुलिस ने जेसीबी की मदद से गाड़ी को बाहर निकलवाया और राहत बचाव शुरू किया। मौके पर एसडीएम कार्तिकेय सिंह भी पहुंचे।

कार में सवार लोगों ने बताई आंखो देखी घटना

कार हादसे में बचे राजू के चेहरे पर एक्सीडेंट की दहशत साफ देखी जा सकतीी है और बताते है कि कार शाहजहांपुर से चली थी। उसमें अलग-अलग सवारियां तकरीबन 11 से 12 लोग बैठे थे और सभी लोग सो गए थे।

उनका कहना था कि पलिया के पास ड्राइवर को नींद आ गई या जाने क्या हुआ। सामने सड़क कटी थी और उसी में जाकर कार पलट गई। काफी मश्कत के बाद लोग निकले हैं पर पांच लोग मर गए।

दूसरी ओर रामनरेश का कहना है कि वह पलिया के रहने वाले हैं। वह भी अपने घर को लौट रहे थे। वह भी उसी कार में सवार थे जोकि हादसे का शिकार हुई है। उनका कहना है कि गाड़ी में हम लोग आराम से बैठे थे, अधिकतर लोग सो रहे थे। अचानक से पता नहीं क्या हुआ। गाड़ी अचानक से पलट गई और चीखपुकार मच गई। 

स्थानीय लोग- बाढ़ के दौरान सड़क गई थी कट

घटनास्थल पर एसडीएम कार्तिकेय सिंह भी पहुंचे और जेसीबी से कार को बाहर निकाला गया। बताया जा रहा है कि घायलों से मुलाकात करने के लिए डीएम भी सीएचसी पहुंच रहे हैं।

स्थानीय लोगों का कहना है कि बीते दिनों बाढ़ में यह सड़क कट गई थी लेकिन कोई मरम्मत कार्य नहीं हुआ था। स्थानीय लोगों का आरोप है कि जो वीआईपी पलिया आते हैं, उनको भी इसके बारे में नहीं बताया जाता है। चूंकि रात में टैक्सी वाले काफी तेज स्पीड से गाड़ी चलाते हैं इसलिए हादसे के मौके बढ़ जाते हैं। 

Share this story