चंडीगढ़ का MMS कांड आखिर है क्या? क्यों मचा बवाल-कैसे हुआ खुलासा, जानें A to Z सबकुछ

चंडीगढ़ का MMS कांड आखिर है क्या? क्यों मचा बवाल-कैसे हुआ खुलासा, जानें A to Z सबकुछ

Newspoint24/newsdesk/एजेंसी इनपुट के साथ

चंडीगढ़। चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी के गर्ल्स हॉस्टल में लड़कियों के नहाते हुए वीडियो लीक होने के मामले में पुलिस ने अब तक 3 लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें वीडियो बनाने वाली आरोपी लड़की के अलावा शिमला में रहने वाले उसके ब्वॉयफ्रेंड और एक अन्य लड़के को गिरफ्तार किया जा चुका है।

कोर्ट ने तीनों आरोपियों को 7 दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया है। फिलहाल इस मामले की जांच के लिए एसआईटी गठित की जा चुकी है। आखिर क्या है चंडीगढ़ का MMS कांड और पिछले तीन दिनों में इस केस में क्या-क्या हुआ, आइए जानते हैं सबकुछ। 

कब सामने आया मामला? 

तारीख 16 सितंबर 2022, जगह- चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी गर्ल्स हॉस्टल। समय - शाम 7 बजे। कुछ छात्राओं ने खुदकुशी की कोशिश की। बेहोश होने के बाद कई छात्राओं को अस्पताल ले जाया गया।

वजह- इन छात्राओं के साथ रहने वाली एक स्टूडेंट ने उनका नहाते हुए वीडियो वायरल कर दिया। हालांकि, पुलिस और यूनिवर्सिटी प्रबंधन ने इस घटना से इनकार किया है। 

कैसे यूनिवर्सिटी में मचा बवाल? 

शनिवार शाम करीब साढ़े 7 बजे 100 से ज्यादा छात्राओं ने मोहाली यूनिवर्सिटी हॉस्टल में जमकर हंगामा किया। जैसे-जैसे रात होती गई हंगामा बढ़ता गया। लड़कियों के परिजन और स्टूडेंट यूनियन ने भी विरोध शुरू कर दिया।  

कैसे हुआ एमएमएस कांड का खुलासा?

चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी के MMS कांड का खुलासा अचानक नहीं हुआ। दरअसल, जब आरोपी स्टूडेंट बाथरूम के दरवाजे के नीचे से वीडियो बना रही थी, तभी कुछ छात्राओं ने उसे देख लिया।

फिर यह शिकायत हॉस्टल की वार्डन से की गई। वार्डन ने आरोपी छात्रा से पूछताछ की तो उसने यह माना कि हां कुछ वीडियो उसने बनाए हैं। उसने यह भी कबूल किया कि उसने ये वीडियो कुछ लोगों को भेजे थे। 

क्यों उग्र हुए स्टूडेंट ?

इसी बीच, वीडियो लीक केस में इंटरनेशनल कनेक्शन की बात सामने आ रही है। जब मामला मीडिया में आया, तो एक स्टूडेंट को वॉट्सऐप पर कॉल आई। इसमें धमकी दी गई कि उसका भी वीडियो वायरल किया जा सकता है। इस कॉल के बाद छात्राएं और ज्यादा उग्र हो गईं।

क्यों पुलिस-यूनिवर्सिटी पर लगे तथ्यों को छुपाने के आरोप :  

मोहाली के एसएसपी ने कहा-गिरफ्तार की गई छात्रा ने पूछताछ में बताया है कि उसने किसी दूसरी छात्रा का वीडियो रिकॉर्ड नहीं किया है। उसने सिर्फ अपना ही वीडियो रिकॉर्ड करके भेजा है। एसएसपी के मुताबिक, आरोपी का मोबाइल फोन फोरेंसिक जांच के लिए भेजा गया है। हालांकि, छात्राओं ने पुलिस और यूनिवर्सिटी प्रशासन पर तथ्यों को दबाने का आरोप लगाया था। 

पुलिस ने गिरफ्तार किए तीनों आरोपी : 

पुलिस ने 18 सितंबर को शिमला से आरोपी छात्रा के ब्वॉयफ्रेंड रंकज वर्मा (31) को गिरफ्तार किया। आरोप है कि छात्रा रंकज वर्मा के कहने पर ही छात्राओं के वीडियो बनाकर उसे भेजती थी।

इसके अलावा पुलिस ने एक और आरोपी सन्नी मेहता (23) को भी शिमला के रोहड़ू से गिरफ्तार कर लिया। सन्नी पर वीडियो वायरल करने के आरोप हैं। आरोपी छात्रा को पुलिस पहले ही गिरफ्तार कर चुकी थी। 

ऐसे खत्म हुआ स्टूडेंट का विरोध-प्रदर्शन : 

पंजाब पुलिस ने तीनों आरोपियों के मोबाइल फोन को फॉरेंसिक जांच के लिए भेज दिया है। इसके साथ ही इस मामले में जांच के लिए पंजाब डीजीपी गौरव यादव ने एसआईटी गठित कर दी है।

उन्होंने कहा कि जांच चल रही है और इस मामले में शामिल किसी भी व्यक्ति को बख्शा नहीं जाएगा। पुलिस से मामले की सही जांच का भरोसा मिलने के बाद स्टूडेंट्स ने सोमवार को अपना प्रदर्शन खत्म कर दिया। दूसरी ओर, यूनिवर्सिटी में 24 सितंबर तक छुट्टी कर दी गई है। 

Share this story