सरपंच को घूंघट में देख शिक्षा मंत्री ने की अपील- मीनाबा से कहूंगा वे इसे छोड़ दें, युवक बोला- हम राजपूत हैं सर

सरपंच को घूंघट में देख शिक्षा मंत्री ने की अपील- मीनाबा से कहूंगा वे इसे छोड़ दें, युवक बोला- हम राजपूत हैं सर

 Newspoint24/newsdesk/एजेंसी इनपुट के साथ 

नई दिल्ली। गुजरात के मेहसाणा जिले से दिल जीत लेने वाली एक खबर सामने आ रही है। यहां रंतेज गांव में एक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए राज्य के शिक्षा मंत्री जीतू वाघानी पहुंचे थे। उन्होंने यहां एक ऐसा काम किया, जिसकी हर तरफ सराहना हो रही है। हर कोई उनकी तारीफ कर रहा है। 

बताया जा रहा है कि इस कार्यक्रम में गांव की महिला सरपंच मीनाबा भी कार्यक्रम में शामिल होने के लिए पहुंची थीं। वह घूंघट निकालकर एक तरफ कार्यक्रम स्थल पर खड़ी थीं। इस दौरान उन्होंने मंत्री जीतू वाघानी को स्मारिका सौंपी। वह महिलाओं के समूह के साथ मंच पर आईं। इस दौरान भी वह घूंघट में थीं। 

शिक्षा मंत्री जीतू वाघानी की बात सुनकर सब हैरान रह गए 

गांव के पुरुषों को कुर्सी पर बैठे औेर महिला सरपंच को अन्य महिलाओं समेत फर्श पर घूंघट में बैठा देख शिक्षा मंत्री को अजीब लगा। इसके बाद सरपंच मीनाबा और उनके साथ बैठी महिलाओं समेत वहां मौजूद सभी लोग तब हैरान रह गए, जब शिक्षा मंत्री जीतू वाघानी ने कहा कि मीनाबा और यहां मौजूद अन्य महिलाएं अपना घूंघट हटा दें। उन्होंने यह भी कहा, अगर बुजुर्ग अनुमति दें तो मैं मीनाबा से इस परंपरा से बाहर आने का अनुरोध करूंगा। 

मंत्री ने कहा- देखिए दुनिया कहां से कहां पहुंच गई है 
जीतू वाघानी के इस अनुरोध को सुनते ही कार्यक्रम में मौजूद एक युवक आगे आया और बोला- सर, हम राजपूत हैं। इस पर वाघानी ने उसे समझाते हुए कहा- जाति से इसका क्या ताल्लुक? दरबार, पटेल, बनिया फिर ब्राह्मण, देखिए महिलाएं कितनी खुश हैं।

उन्होंने कहा, मान-मर्यादा ठीक है, मगर जब आप सरपंच है तो आपको इन परंपराओं से हटना होगा। गांव को तय करने दीजिए। देखिए, दुनिया कहां से कहां पहुंच गई है। 

बुजुर्ग ने भी मंत्री की बात का समर्थन किया 

मंत्री ने कहा, जो भी पालन करना है किजिए, मगर घर पर करें। हम यह नहीं कहते कि यह परंपरा खराब है, लेकिन समय के अनुसार हमें बदलना भी होगा और इससे बाहर आना होगा, जिससे हम और हमारा समाज आगे बढ़ सके। यह सब सुनने के बाद मंच पर मौजूद एक बुजुर्ग ने मंत्री की बात का समर्थन किया, जिसके बाद मीनाबा ने अपना घूंघट हटा लिया। 

Share this story