दिल्ली के सबसे बड़े इलेक्ट्रॉनिक मार्केट भगीरथ पैलेस में आग से 100 से अधिक दुकानें राख, जानिए पूरी डिटेल्स

दिल्ली के सबसे बड़े इलेक्ट्रॉनिक मार्केट भगीरथ पैलेस में आग से 100 से अधिक दुकानें राख, जानिए पूरी डिटेल्स

Newspoint24/newsdesk/एजेंसी इनपुट के साथ

नई दिल्ली। उत्तरी दिल्ली के चांदनी चौक के भागीरथ पैलेस इलाके के एक थोक बाजार में गुरुवार शाम भीषण आग लग गई। आग इतनी तेज थी कि शुक्रवार सुबह तक उस पर काबू पाने की मशक्कत चलती रही।

फायर ब्रिगेड के अधिकारियों ने बताया कि आग बुझाने का अभियान शुक्रवार सुबह तक जारी रहा। हालांकि घटना में किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है। फायर डिपार्टमेंट के अनुसार, गुरुवार रात 9 बजकर 19 मिनट पर आग लगने की कॉल मिली और 30 फायर टेंडर्स को कार्रवाई में लगाया गया।

प्रारंभिक जांच में बताया गया है कि आग एक दुकान से शुरू हुई और बाजार में बगल की दुकानों में फैल गई। आग लगने के कारणों का अभी पता नहीं चल पाया है। 

Shocking accident, Fire at wholesale market in Delhi Chandni Chowk kpa

इलेक्ट्रॉनिक्स का बड़ा मार्केट है

आग लगने की घटना के बाद मार्केट में अफरातफरी मच गई। हर तरफ धुआं ही धुआं फैल गया था। इसे दिल्ली का सबसे बड़ा इलेक्ट्रॉनिक मार्केट मा जाता है। शुरू में दमकल की 18 गाड़ियों को भेजा गया था। लेकिन आग इतनी भीषण थी कि उस पर काबू पानी संभव न देख, 22 और गाड़ियां भेजीं गईं।

दुकानदारों का कहना है कि आग की इस घटना में 100 से अधिक दुकानें जलकर खाक हो गईं। वहीं, भगीरथ पैलेस इमारत का एक हिस्सा भी गिर गया। अकेली एक इमारत की 30 से अधिक दुकानों जलकर राख हो गईं। इस हादसे में दुकानदारों का करोड़ों का नुकसान होने की आशंका है।

आग बुझाने के अभियान के दौरान पुलिस और दमकल विभाग के कई सीनियर अधिकारी मौके पर मौजूद रहे। देर रात दिल्ली अग्निशमन विभाग के निदेशक अतुल गर्ग ने कहा कि कोई हताहत नहीं हुआ है। लेकिन एक बिल्डिंग का हिस्सा अवश्य गिर गया।

पूरा मार्केट खाली कराना पड़ा

जिस जगह पर आग की घटना हुई, वहां संकरी गलियों और अतिक्रमण के चलते दमकल गाड़ियों को पहुंचने में बड़ी दिक्कत हुई। पुलिस को गुरुवार रात करीब 9.19 बजे सूचना मिली थी कि भगीरथ पैलेस की दुकानों में आग लग गई है। जिस दुकान से आग शुरू हुई वो नंबर-1868 बताई गई है।

आग ने जल्द ही बाकी दुकानों को भी अपनी चपेट में ले लिया। घटना के समय ज्यादातर दुकानें बंद हो चुकी थीं। आग की लपटें दूर-दूर तक दिखाई दे रही थीं। हादसे के बाद पूरे इलाके की लाइट बंद करनी पड़ी। दमकल विभाग के करीब 150 कर्मचारी और फायर फाइटर्स मौके पर आग बुझाते देखे गए। दुकानों में बिजली का सामान होने के कारण आग तेजी से फैली। हालांकि दमकल विभाग की तत्परता से आग आगे नहीं फैल सकी।

Share this story