गुजरात, मप्र, राजस्थान, मेघालय, मणिपुर सहित कई राज्यों में फिर से भारी बारिश का अलर्ट

गुजरात, मप्र, राजस्थान, मेघालय, मणिपुर सहित कई राज्यों में फिर से भारी बारिश का अलर्ट

Newspoint24/newsdesk/एजेंसी इनपुट के साथ 

नई दिल्ली। दक्षिण पश्चिमी मानसून(south west monsoon) की एक्टिविटी बढ़ने से कई राज्यों में फिर से भारी बारिश का दौर चल पड़ा है।

भारत मौसम विज्ञान विभाग(IMD) ने कहा है कि आजकल में केरल, कर्नाटक, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के कुछ हिस्सों, मराठवाड़ा, विदर्भ के कुछ हिस्सों हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है।

मेघालय, मणिपुर, गुजरात, मध्य प्रदेश और राजस्थान में हल्की से मध्यम बारिश के साथ एक या दो स्थानों पर भारी बारिश संभव है। (यह तस्वीर केरल के त्रिशूर की है। जिले में भारी मानसूनी बारिश के बाद पेरिंगलकुथु बांध के गेट खोले गए)

इन राज्यों में हल्की या मध्यम बारिश का अलर्ट

हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश के शेष हिस्सों, उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों, छत्तीसगढ़, ओडिशा, तटीय आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, तमिलनाडु, रायलसीमा, मध्य महाराष्ट्र और कोंकण और गोवा में हल्की से मध्यम बारिश की संभावना है।

जबकि जम्मू कश्मीर, दिल्ली, बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल, शेष पूर्वोत्तर भारत, तटीय ओडिशा और सौराष्ट्र और कच्छ में हल्की बारिश हो सकती है।

मुख्यमंत्री ने तमिलनाडु में भारी बारिश से उत्पन्न स्थिति का जायजा लिया

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन ने गुरुवार को राज्य के कई जिलों में भारी बारिश से उत्पन्न स्थिति का जायजा लिया और जिला कलेक्टरों को निवासियों को पूर्व सूचना दिए बिना बांधों से पानी नहीं छोड़ने का आदेश दिया।

मुख्यमंत्री ने 12 जिलों के कलेक्टरों के साथ स्थिति की समीक्षा की। चूंकि मेट्टूर जलाशय से दो लाख क्यूसेक पानी छोड़े जाने से कावेरी और कोलिदाम के तटबंध पर बने जिले प्रभावित होंगे, इसलिए मुख्यमंत्री ने निगरानी अधिकारियों से उचित उपाय करने को कहा।

केरल में नदियों के उफान पर हजारों लोगों को निकाला गया

मानसून की बारिश के कारण विभिन्न नदियों में बाढ़ का पानी बढ़ने के बाद मध्य और उत्तरी केरल जिलों के हजारों निवासियों को वहां से निकाला गया है। वॉटर लेवल मैनेज करने के लिए डैम के शटर खोलने पड़े हैं।

केरल राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (KSDMA) ने कहा कि 31 जुलाई से राज्य में भारी बारिश और बाढ़ में कम से कम 19 लोगों की मौत हो गई है।

इससे 32 संपत्तियों को पूरी तरह से और 232 को आंशिक रूप से नुकसान पहुंचा है। भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने 8 अगस्त तक केरल में व्यापक बारिश की भविष्यवाणी की है। 

दिल्ली में बारिश की स्थिति

दिल्ली के कई हिस्सों में गुरुवार को बारिश हुई, जिससे गर्म और उमस भरे मौसम से थोड़ी राहत मिली। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के अनुसार, शुक्रवार और शनिवार को सामान्य रूप से बादल छाए रहने की संभावना है।

शुक्रवार को न्यूनतम और अधिकतम तापमान 26 और 34 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने की संभावना है। शहर में 1 जून से मानसून का मौसम शुरू होने के बाद से सामान्य 307.7 मिमी के मुकाबले 312 मिमी वर्षा हुई है।

ओडिशा के लिए भारी बारिश की चेतावनी

मौसम विभाग ने गुरुवार को कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना के कारण अगले कई दिनों में ओडिशा में भारी से बहुत भारी बारिश की चेतावनी दी है।

भुवनेश्वर मौसम विज्ञान केंद्र ने कहा कि मानसून के धीरे-धीरे मजबूत होने और कम दबाव का क्षेत्र होने के कारण शुक्रवार से बारिश की गतिविधियां बढ़ने की उम्मीद है।

राज्य भर में शनिवार से अगले बुधवार तक व्यापक वर्षा की भविष्यवाणी करते हुए कहा कि मौसम प्रणाली रविवार के आसपास बंगाल की उत्तर-पश्चिम और पश्चिम-मध्य खाड़ी में बन सकती है।

मछुआरों को सलाह दी गई है कि वे रविवार से पश्चिम-मध्य बंगाल की खाड़ी के गहरे समुद्र के क्षेत्रों में न जाएं, क्योंकि इस क्षेत्र में 45-55 किमी प्रति घंटे की तेज हवा के साथ खराब मौसम है।

मौसम विभाग ने शुक्रवार को मलकानगिरी, कोरापुट, नबरंगपुर, रायगड़ा, कालाहांडी, गजपति और गंजम जिलों के कुछ हिस्सों में 70-110 मिमी भारी बारिश की पीली चेतावनी जारी की। एक बुलेटिन के अनुसार, अगले तीन दिनों में पुरी और कटक सहित कई जिलों में बारिश हो सकती है। रविवार को मलकानगिरी, कोरापुट, नबरंगपुर, रायगडा और गजपति जिलों के कुछ इलाकों में 200 मिमी तक भारी बारिश की नारंगी चेतावनी जारी की गई है।

सोमवार को पुरी, खुर्दा, गजपति, गंजम, जगतसिंहपुर, मलकानगिरी और कोरापुट में भी भारी बारिश हो सकती है। मौसम कार्यालय ने कहा कि बारिश से निचले इलाकों में जलभराव हो सकता है और संवेदनशील पहाड़ी इलाकों में भूस्खलन या भूस्खलन हो सकता है।

मौसम में बदलाव की ये हैं वजहें

स्काईमेट वेदर(skymet weather) के अनुसार, मानसून ट्रफ अब गंगानगर, हिसार, अलीगढ़, हरदोई, वाराणसी, जमशेदपुर, बालासोर और फिर पूर्व दक्षिण-पूर्व की ओर बंगाल की खाड़ी के उत्तर-पूर्व की ओर जा रही है।

एक विंडशियर जॉन का क्षेत्र दक्षिण प्रायद्वीपीय भारत के उत्तर में लगभग 11 डिग्री उत्तर में है, जो समुद्र तल से 3.1 और किमी ऊपर है।

पश्चिम मध्य और दक्षिण आंध्र प्रदेश से सटे दक्षिण पश्चिम बंगाल की खाड़ी और उत्तरी तमिलनाडु तट पर चक्रवाती परिसंचरण 3.1 औसत समुद्र स्तर तक फैला हुआ है। मध्य उत्तर प्रदेश के दक्षिणी भागों पर एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना हुआ है।

बीते दिन इन राज्यों में बारिश हुई

बीते दिन लक्षद्वीप, केरल, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, दक्षिण मध्य महाराष्ट्र, मराठवाड़ा, पश्चिम बंगाल, छत्तीसगढ़ के कुछ हिस्सों हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश हुई और बिहार, उत्तरी हरियाणा, उत्तराखंड, सिक्किम और गुजरात में हल्की से मध्यम बारिश के साथ एक या दो स्थानों पर भारी बारिश दर्ज की गई।

तमिलनाडु, रायलसीमा, केरल के कुछ हिस्सों, कर्नाटक, तेलंगाना, तटीय ओडिशा, मध्य महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, मध्य और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों और दिल्ली एनसीआर में हल्की से मध्यम बारिश हुई। यही स्थिति पूर्वी राजस्थान, गुजरात, उत्तर पूर्व भारत, बिहार के कुछ हिस्सों, तटीय आंध्र प्रदेश और हिमाचल प्रदेश में रही।

यह भी पढ़ें : हर घर तिरंगा: डिमांड पूरी करने मीलों पैदल पहाड़ों पर चढ़कर सेंटर तक पहुंच रहीं महिलाएं

Share this story