1.10 लाख के बदले 4.5 लाख के नकली नोट, कोयंबटूर में छापे गए थे, पढ़िए फेक करेंसी का खेल

zvx

Newspoint24/newsdesk/एजेंसी इनपुट के साथ  

मेंगलुरु। देश से ब्लैक मनी और नकली करेंसी को खत्म करने  8 नवंबर 2016 के दिन रात 8 बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशभर में नोटबंदी का एलान किया था। 2 जनवरी को सुप्रीम कोर्ट ने इसे सही ठहराया। लेकिन नकली नोटों का कारोबार रुका नहीं है। पुलिस ने 4.5 लाख रुपये मूल्य के 500 रुपये के जाली नोटों के साथ दो लोगों को गिरफ्तार किया है। पढ़िए पूरी डिटेल्स...


आदतन क्रिमिनल है आरोपी

गिरफ्तार लोगों की पहचान बीसी रोड निवासी निजामुद्दीन (32) और जेप्पू निवासी राजीम (31) के रूप में हुई है। निजामुद्दीन के खिलाफ अलग-अलग थानों में हत्या, चोरी और हत्या के प्रयास सहित पांच मामले दर्ज हैं।

राजीम पर उरवा थाने में एक मुकदमा दर्ज है। पुलिस कमिश्नर एन शशि कुमार के मुताबिक, मैंगलोर शहर के कादरी पुलिस थाना क्षेत्र में हमने निज़ामुद्दीन और रज़ीम नाम के 2 लोगों को हिरासत में लिया है।

हमने उनसे एक लूटा गया व्हीकल बरामद किया और 4.5 लाख नकली नोट(500 के) जब्त किए हैं। आरोपियों ने कहा कि वे नकली नोट बेंगलुरु से लाए थे और इसके लिए उन्हे 1.10 लाख रुपये का भुगतान किया था। उन्होंने यह भी खुलासा किया कि जिससे उन्हें नकली नोट मिले थे। उसने उन्हें बताया था कि पैसे कोयम्बटूर में छपे थे। हम इसकी पुष्टि करेंगे।

गलत तरीके से पैसा कमाने का खेल

देश में नकली नोटों की खपत बढ़ना चिंता की वजह बन गया है। पिछले दो तीन सालों में ऐसे कई मामले सामने आए हैं। नकली नोट बांग्लादेश या पाकिस्तान से भारत में लाए जा रहे हैं। कुछ मामले ऐसे निकले, जहां यूट्यूब पर नकली नोट छापने के तौर तरीके इस्तेमाल किए गए। 

ऐसे पहचानें नकली नोट

एक रिपोर्ट के अनुसार बाजार में 10, 20, 50, 100, 200, 500, 2000 रुपए के नकली नोटों की भरमार हो चुकी है। ऐसे में जरूरी है कि आप भी यह जानें कि आखिर इनमें से असली नोटों की पहचान कैसे की जाती है। लीजिये हम आपको तरीका बता रहे हैं। इन तरीकों से आंख बंद कर भी पहचान जाएंगे कि नोट असली है या नकली।

Share this story