पुरी में सूर्यास्त के बाद रुकी रथयात्रा: 53 साल बाद इस साल पुरी की रथयात्रा दो दिनों की 

पुरी में सूर्यास्त के बाद रुकी रथयात्रा

53 साल बाद इस साल पुरी की रथयात्रा दो दिनों की है। यात्रा का पहला दिन सूर्यास्त के साथ आज (रविवार) पूरा हो गया है। जगन्नाथ, बलभद्र और सुभद्रा के रथ रुक गए हैं। अब रात की पूजा और सोमवार सुबह की पूजा रथों पर ही होगी। कल सुबह नियमित पूजा-पाठ के बाद करीब 9 बजे से रथयात्रा फिर शुरू होगी।

जगन्नाथ मंदिर के पंचांगकर्ता डॉ. ज्योति प्रसाद के मुताबिक, कल सुबह भगवान की मंगला आरती 4 बजे होगी। इसके बाद सुबह 7 बजे भगवान को खिचड़ी का भोग-प्रसाद लगाया जाएगा।

आज दिनभर यात्रा में क्या-क्या हुआ ये जानने के लिए नीचे ब्लॉग से गुजरिए...

भगवान को रथ में विराजित करने के लिए ले जाते भक्त।

भगवान को रथ में विराजित करने के लिए ले जाते भक्त।

सूर्यास्त के बाद यात्रा रुकी, कल सुबह फिर शुरू होगी

सबसे पहले बलभद्र का रथ खींचा गया है। इसके बाद सुभद्रा और जगन्नाथ जी का रथ खींचा गया। सूर्यास्त हो चुका है, इस वजह से यात्रा को विराम दिया गया है। अब कल सुबह नियमित पूजा-पाठ के बाद करीब 9 बजे से रथयात्रा फिर शुरू होगी।

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने भक्तों के साथ खींचा सुभद्रा का रथ

बलभद्र के बाद देवी सुभद्रा का रथ आगे बढ़ने लगा है। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने भी भक्तों के साथ देवी का रथ खींचा। इसके बाद वे यहां से लौट गई हैं और कल सुबह फिर रथयात्रा में शामिल होंगी।

बलभद्र के बाद सुभद्रा का रथ बढ़ता है आगे

इस समय बलभद्र का रथ आगे बढ़ रहा है। बलभद्र के बाद सुभद्रा का रथ खींचा जाएगा और फिर जगन्नाथ जी का रथ आगे बढ़ेगा।

Share this story