कांग्रेस का चिंतन शिविर :  उदयपुर में 400 से ज्यादा पदाधिकारी तीन दिनों तक मंथन करेंगे

Congress's Chintan Shivir: More than 400 officials will brainstorm for three days in Udaipur

सूत्रों के मुताबिक, राहुल गांधी का कांग्रेस अध्यक्ष बनना तय है। चुनाव महज एक दिखावा होगा। कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के नेतृत्व में पार्टी चिंतन शिविर का आयोजन कर रही है।

इस चिंतन शिविर में ही कांग्रेस के भावी अध्यक्ष को लेकर भी तस्वीर साफ हो जाएगी, जिसके नेतृत्व में 2024 का लोक सभा चुनाव लड़ा जाएगा। हालांकि, कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव अगस्त-सितंबर महीने में होना है। लेकिन पार्टी के बड़े नेताओं ने तो 9 मई को हुई कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में ही राहुल गांधी से पार्टी का अध्यक्ष का पद संभालने की मांग शुरू कर दी थी।

Newspoint24/ newsdesk / एजेंसी इनपुट के साथ

उदयपुर। कई राज्यों में चुनाव में मिली हार के बाद संकट का सामना कर रही कांग्रेस के शीर्ष नेताओं समेत 400 से ज्यादा पदाधिकारी पार्टी को दोबारा मजबूत बनाने के लिए आज (शुक्रवार को) से राजस्थान (Rajasthan) के उदयपुर (Udaipur) में तीन दिनों तक मंथन करेंगे। इसके लिए चिंतन शिविर का आयोजन किया गया है। लेकिन इससे पहले ही राहुल गांधी को एक बार फिर से कांग्रेस का अध्यक्ष बनाने की मांग नेताओं ने उठानी शुरू कर दी है।

राहुल गांधी फिर बनेंगे कांग्रेस के अध्यक्ष?
सूत्रों के मुताबिक, राहुल गांधी का कांग्रेस अध्यक्ष बनना तय है। चुनाव महज एक दिखावा होगा। कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के नेतृत्व में पार्टी चिंतन शिविर का आयोजन कर रही है। इस चिंतन शिविर में ही कांग्रेस के भावी अध्यक्ष को लेकर भी तस्वीर साफ हो जाएगी, जिसके नेतृत्व में 2024 का लोक सभा चुनाव लड़ा जाएगा। हालांकि, कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव अगस्त-सितंबर महीने में होना है। लेकिन पार्टी के बड़े नेताओं ने तो 9 मई को हुई कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में ही राहुल गांधी से पार्टी का अध्यक्ष का पद संभालने की मांग शुरू कर दी थी।

चिंतन शिविर में बनाई जाएगी खास रणनीति

चिंतन शिविर में पार्टी में ‘समयबद्ध और जरूरी बदलाव’ करने, ‘ध्रुवीकरण की राजनीति’ समेत विभिन्न मुद्दों पर भारतीय जनता पार्टी (BJP) का कारगर ढंग से मुकाबला करने और अगले लोक सभा चुनाव के लिए खुद को तैयार करने पर मुख्य रूप से जोर दिया जाएगा। पार्टी सूत्रों ने बताया कि उदयपुर में 13-15 मई को होने जा रहे इस चिंतन शिविर के बाद जो ‘नवसंकल्प’ दस्तावेज जारी होगा, वह आगे के कदमों की घोषणा (एक्शनेबल डिक्लियरेशन) होगा। इसमें यह संदेश भी दिया जाएगा कि राष्ट्रीय स्तर पर गठबंधन के लिए ‘मजबूत कांग्रेस’ का होना जरूरी है।

इन मुद्दों पर चिंतन शिविर में होगी चर्चा

सूत्रों ने कहा कि इस शिविर में कांग्रेस अध्यक्ष के स्तर पर बदलाव को लेकर शायद चर्चा नहीं हो, क्योंकि इसके चुनाव की घोषणा पहले ही हो चुकी है। इस चिंतन शिविर में राजनीति, सामाजिक न्याय और सशक्तिकरण, अर्थव्यवस्था, संगठन, किसान और कृषि व युवाओं से जुड़े विषयों पर छह अलग-अलग समूहों में 430 नेता चर्चा करेंगे, यानी हर समूह में करीब 70 नेता शामिल होंगे।

 चिंतन शिविर में कब क्या होगा 

13 मई- चिंतन शिविर का पहला दिन
- दोपहर 12 बजे सभी डेलिगेट्स शिविर स्थल पर एकत्र होंगे।
- 1 बजे लंच ब्रेक होगा।
- 2 बजे कांग्रेस अध्यक्ष का आगमन होगा।
- 2.04 पर आयोजन समिति अध्यक्ष स्वागत करेंगे।
- 2.06 पर स्वागत भाषण होगा।
- 2.10 बजे कांग्रेस अध्यक्ष का उद्घाटन भाषण होगा।
- 3 बजे समूह चर्चा होगी।

14 मई- चिंतन शिविर का दूसरा दिन
- सुबह 10.30 बजे से समूह चर्चा का आगाज होगा।
- 1.00 बजे लंच ब्रेक होगा।
- 2.30 से 7.30 बजे तक समूह चर्चा होगी।
- रात 8.00 बजे 6 समन्वय समितियों के समन्वयकों की मीटिंग होगी।

15 मई- चिंतन शिविर का तीसरा और अंतिम दिन
- दोपहर 2.30 बजे चिंतन शिविर स्थल पर सभी प्रतिभागी जुटेंगे।
- 3.00 बजे तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष द्धारा समापन भाषण होगा। साथ ही काग्रेंस अध्यक्ष का भाषण भी होगा।
- राजस्थान पीसीसी चीफ द्धारा धन्यवाद ज्ञापित किया जाएगा।
- 4.15 पर राष्ट्रगान के साथ नव संकल्प शिविर का समापन होगा।

यह भी पढ़ें : धारा 370 हटने के बाद कानून-व्यवस्था पूरी तरह कंट्रोल में है-लेफ्टिनेंट जनरल देवेंद्र प्रताप
 

Share this story