फतेहपुर में छात्र की हत्या का खुलासा, जीजा-साले गिरफ्तार:एसपी बोले- मौलवी ने बच्चे के साथ कुकर्म किया

फतेहपुर में छात्र की हत्या का खुलासा, जीजा-साले गिरफ्तार

Newspoint24/newsdesk/एजेंसी इनपुट के साथ

 

फतेहपुर । पुलिस ने मदरसे के छात्र की हत्या का खुलासा किया है। इस मामले में पुलिस ने 2 मौलवी को गिरफ्तार किया है। दोनों आपस में जीजा-साले हैं। पुलिस का कहना है कि साले ने छात्र के साथ कुकर्म किया था। इसके बाद उसका मुंह पर टेप चिपका दिया था। जिससे दम घुटने से उसकी मौत हो गई थी। इसके बाद जीजा-साले ने छात्र के शव को बोरी में बांधकर कुएं में फेंक दिया था। मामला मलवा थाना क्षेत्र के एक मदरसे का है।

पुलिस अधीक्षक उदय शंकर सिंह ने बताया कि बीती 29 जून को छात्र की मां ने पुलिस को सूचना दी। उन्होंने बताया कि 9 साल का बच्चा मदरसे में पढ़ता है जो गायब है। इसके बाद पुलिस ने मामले की जांच-पड़ताल में जुटी। अगले दिन 30 जून को बच्चे की मां ने बताया कि उसके बच्चे की चप्पल और टोपी मदरसे के बगल एक तालाब के पास पड़ा है। पुलिस ने जाल डलवाकर बच्चे की तलाश की, लेकिन कुछ भी हाथ नहीं लगा। उसके बाद पास के कुएं में तलाशी कराई गई तो बोरी में बच्चे का शव बरामद हुआ।

 

आरोपी ने कबूला जुर्म
इसके बाद पुलिस ने मुकदमा दर्ज करके विवेचना शुरू की। विवेचना के दौरान मुखबिर की सूचना पर घटना में शामिल रकीमुद्दीन (39) और दिलनवाज (22) जब कड़ाई से पूछताछ की तो उन लोगों ने अपना जुर्म कबूल कर लिया। पकड़े गए दोनों अभियुक्त रिश्ते में जीजा और साले हैं। दोनों बिहार प्रांत के पूर्णिया के रहने वाले हैं। घटना में प्रयुक्त मोटर साइकिल, सेलो टेप और रस्सी का टुकड़ा भी बरामद कर लिया गया है। पकड़े गए दोनों अभियुक्त मदरसे का संचालन करते हैं। जिसमें करीब डेढ़ दर्जन बच्चे तालीम हासिल कर रहे हैं।

पुलिस की गिरफ्त में आरोपी जीजा-साले।

(पुलिस की गिरफ्त में आरोपी जीजा-साले।)

पोर्न वीडियो देखने का आदी था
एसपी ने बताया कि अभियुक्त दिलनवाज मोबाइल में पोर्न वीडियो देखने का आदी है। जब शाम करीब 6 बजे मदरसे के सभी बच्चे खेलने के लिए चले गए तो दिलनवाज उस बच्चे को मदरसे में बने एक कमरे पर ले गया और हवस का शिकार बनाया।
अपराध छिपाने के लिए टेप से उसका मुंह बंद कर दिया और रस्सी से हाथ-पैर बांध दिए। जिसकी वजह से बच्चे का दम घुट गया और उसकी मौत हो गई।

इस घटना के बारे में दिलनवाज ने अपने जीजा रकीमुद्दीन को बताया तो उसने किसी को भी बताने से मना किया। मदरसे को बदनामी से बचाने के लिए शव को ठिकाने लगाने की योजना बना डाली। देर रात बच्चे के शव को ठिकाने लगाने के लिए दोनों अभियुक्त शव को बोरी में भरकर मोटर साइकिल पर लादकर गांव के बाहर कुएं में फेंक दिया।

सीडब्लूसी की टीम कर रही जांच
एसपी ने बताया कि मदरसे में अध्यनरत अन्य बच्चों के बारे में सीडब्लूसी के माध्यम से छानबीन कराई जा रही है। इसके अलावा जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी भी अपने स्तर से प्रकरण की छानबीन कर रहे हैं। अभियुक्तों को गिरफ्तार करने वाली टीम में एसओजी प्रभारी निरीक्षक विनोद कुमार यादव और औमलवा थानाध्यक्ष मुकेश कुमार अपनी-अपनी टीम के साथ शामिल रहे।

Share this story