Roblox, FIFA, PUBG और Minecraft जैसे गेम्स खेलते हैं तो हो जाएं सावधान...आपका बैंक अकाउंट हो सकता है खाली

Roblox, FIFA, PUBG और Minecraft जैसे गेम्स खेलते हैं तो हो जाएं सावधान...आपका बैंक अकाउंट हो सकता है खाली

Newspoint24/newsdesk/एजेंसी इनपुट के साथ

नई दिल्ली। Roblox, FIFA, PUBG और Minecraft समेत 28 फेमस वीडियो गेम्स के माध्यम से मैलवेयर भेजकर हैकर्स यूजर्स डेटा और अन्य जानकारियां चुरा रहे हैं। जुलाई 2021 से जून 2022 तक 92000 मैलवेयर फाइल्स से 384000 यूजर्स प्रभावित हुए हैं।

यूजर्स डेटा व अन्य जानकारियां हैक करने के बाद बडे़ पैमाने पर मनी ट्रांसफर भी किए गए हैं। कैस्पर्सकी के रिसचर्स ने बताया कि यही नहीं वीडियो गेम्स की बड़ी सीरीज एल्डन रिंग, हेलो एंड रेजीडेंट इविल भी रेडलाइन मैलवेयर फैलाने का काम कर रहे हैं। 

क्या है रेडलाइन मैलवेयर?

दरअसल, रेडलाइन मैलवेयर एकसा साफ्टवेयर प्रोग्राम है जो यूजर्स के डेटा की चोरी करके थर्ड पार्टी को भेजता है। RedLine पासवर्ड चोरी करके पीड़ित के सिस्टम से पासवर्ड आदि सारे डिटेल्स सेव कर लेता है।

वह क्रिप्टोकरेंसी वॉलेट, वीपीएन प्रोवाइडर्स के लिए क्रिडेंशियल जैसी बेहद संवेदनशील व गोपनीय जानकारियां थर्डपार्टी को सेंड कर देता है। 

साइबर अपराधी इस डेटा का कुछ भी उपयोग कर सकते

मैलवेयर के माध्यम से यूजर्स का डेटा चोरी होने के बाद उसका वर्ल्ड वाइड कहीं भी उपयोग हो सकता है। साइबर अपराधी किसी भी यूजर जिसका डेटा मैलवेयर ने चुराया है, उसका उपयोग करके उनके बैंकिंग सिस्टम, फोटोज, फोन आदि में रखी जानकारियां, ईमेल या किसी भी ऑनलाइन फाइल्स से डिटेल्स निकालकर मिसयूज करने में सफल हो सकते हैं। यूं कहें कि उनके एक क्लिक पर आपकी सारी गोपनीय जानकारियां हो सकती हैं। साइबर अपराधी, इन यूजर्स के डेटा को किसी भी बेच भी सकते हैं। 

इस तरह भी आप पर रखी जा सकती है निगरानी

इन मैलवेयर की वजह से बड़ी संख्या में डाउनलोडर के अलावा तमाम तरह के अनवांटेड प्रोग्राम्स और एडवेयर भी इंस्टॉल हो सकते हैं। रिसचर्स ने इस मैलवेयर की वजह से ट्रोजन स्पाईस का भी पता लगाया है।

यह स्पाईवेयर, की-बोर्ड पर जो भी आप टाइप कर रहे हैं उसकी जानकारी लेने व निगरानी में सक्षम हैं। यहां तक की वह इसका स्क्रीनशॉट भी ले सकते हैं।

नए वीडियो गेम्स को फ्री में पाने को तमाम जानकारियां भी साझा

साइबर अपराधी, नए नए वीडियो गेम्स को फ्री में देने के लिए भी तमाम जानकारियों को जुटा ले रहे हैं। वीडियो गेम्स या किसी साफ्टवेयर के लिए यूजर अपनी जानकारियां साझा कर रहा है।

इन जानकारियों को लेने के साथ उन फ्री गेम्स से साइबर अपराधी मैलवेयर इस्टॉल कर दे रहे हैं जो यूजर्स की जानकारियां हैक करने में सक्षम है। यहां तक कि इससे तमाम यूजर्स के वॉलेट या अकाउंट को भी साफ कर दिया जा रहा है। 

Share this story