VVIP नंबर्स के लिए दुगुनी कीमत चुकानी होगी, पति-पत्नी, बेटा-बेटी को भी ट्रांसफर किया जा सकेगा नंबर

VVIP नंबर्स के लिए दुगुनी कीमत चुकानी होगी, पति-पत्नी, बेटा-बेटी को भी ट्रांसफर किया जा सकेगा नंबर

Newspoint24/newsdesk/एजेंसी इनपुट के साथ

मुंबई। वीवीआईपी नंबर्स अपनी गाड़ियों के लिए लेने वाले शौकीनों के लिए थोड़ी परेशान करने वाली खबर है। गाड़ियों के लिए वीवीआईपी नंबर लेने के लिए जेब को थोड़ी और ढीली करनी होगी।

महाराष्ट्र परिवहन निगम ने वीवीआईपी नंबर्स के लिए फीस बढ़ा दी है। वीवीआईपी नंबर लेने के लिए अब डेढ़ से दो गुना दाम चुकाना होगा। सबसे अच्छी बात यह कि अब वीवीआईपी नंबर्स को पति-पत्नी या बेटे-बेटी को ट्रांसफर भी किया जा सकेगा।

0001 नंबर के लिए पांच लाख रुपये लगेंगे

परिवहन विभाग द्वारा जारी आदेश के अनुसार अब किसी भी चार पहिया वाहन के लिए अगर कोई 0001 नंबर लेना चाहता है तो उसे पांच लाख रुपये आरटीओ में जमा करने होंगे।

जबकि पहले यह तीन लाख में ही मिल जाया करता था। दो पहिया या तीन पहिया वाहनों को यही नंबर एक लाख रुपये में मिल जाएगा। पहले 50 हजार रुपये उसे चुकाने होते थे।

सीरीज में नंबर नहीं है तो तीन गुना फीस 

कोई व्यक्ति अगर अपनी चार पहिया या इससे अधिक पहिया वाले वाहन के लिए 0001 सीरीज का नंबर अगर चाहता है और चल रहे सीरीज में नंबर नहीं है तो उसे तीन गुना अधिक फीस देने पर दूसरे सीरीज से 0001 नंबर अलॉट कर दिया जाएगा। चार पहिया वाहनों के लिए 15 लाख रुपये चुकाने होंगे तो दो पहिया वाहनों के लिए तीन लाख रुपये।

जिस जिले में अधिक डिमांड वहां एक लाख अधिक देना होगा

परिवहन विभाग ने देखा है कि 0001 नंबरों की मुंबई, मुंबई शहर, पुणे, ठाणे, रायगढ़, औरंगाबाद, नासिक, कोल्हापुर और नासिक में अधिक डिमांड है।

यहां के वाहन मालिक अगर 0001 नंबर चाहते हैं तो उनको छह लाख रुपये देने होंगे। जबकि आउट ऑफ सीरीज वीआईपी नंबर की कीमत 18 लाख रुपये होगी।

मुकेश अंबानी ने 12 लाख में खरीदी आउट ऑफ सीरीज नंबर

इस साल की शुरुआत में, मुकेश अंबानी की अध्यक्षता वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज (आरआईएल) ने 13.14 करोड़ रुपये की एक अल्ट्रा-लक्जरी रोल्स रॉयस हैचबैक खरीदी। इस कार के लिए एक वीवीआईपी नंबर डिमांड की गई लेकिन वह नंबर आउट ऑफ सीरीज थी। इसके लिए अंबानी ने 12 लाख रुपये चुकाए ताकि आउट ऑफ सीरीज नंबर मिल सके।

महाराष्ट्र में 240 ऐसे नंबर हैं जिनको वीवीआईपी माना जाता

महाराष्ट्र परिवहन विभाग ने 240 नंबर्स को वीवीआईपी सीरीज में रखा है। इन नंबर्स में 0001, 0009, 0099, 0999, 9999 और 0786 नंबर की सबसे अधिक डिमांड है। 189 numbers के रजिस्ट्रेशन का एक और सेट थोड़ी कम फीस पर मिल सकेगा।

इस सीरीज के नंबर 0011, 0022, 0088, 0200, 0202, 4242, 5656 और 7374 को 25 हजार रुपये में चार पहिया वाहनों पर लगवाया जा सकेगा तो छह हजार रुपये में दो पहिया वाहन वाले पा सकेंगे।

वीआईपी नंबर फीस में संशोधन से राज्य परिवहन विभाग को अधिक राजस्व प्राप्त होगा।  वित्तीय वर्ष 2017-18 में 1,83,794 नंबर्स को अलॉट कर विभाग ने 139.20 करोड़ रुपये कमाए थे।

Share this story