हेमंत सोरेन झारखंड के 13वें मुख्यमंत्री बने , जहां से अरेस्ट हुए, 156 दिन बाद वहीं शपथ ली

हेमंत सोरेन झारखंड के 13वें मुख्यमंत्री बने , जहां से अरेस्ट हुए, 156 दिन बाद वहीं शपथ ली

Newspoint24/newsdesk/एजेंसी इनपुट के साथ 

 

हेमंत सोरेन झारखंड के 13वें मुख्यमंत्री बने , जहां से अरेस्ट हुए, 156 दिन बाद वहीं शपथ ली

रांची । हेमंत सोरेन झारखंड के 13वें मुख्यमंत्री बने। जेल से निकलने के छठे दिन ही उन्होंने राज्य की कमान एक बार फिर से अपने हाथ में ले ली है। 24 साल के झारखंड में वे 13वें सीएम बन गए।

इसके साथ ही तीसरी बार राज्य के सीएम पद की शपथ लेने वाले वे तीसरे सीएम बन गए हैं। उनसे पहले उनके पिता शिबू सोरेन और बीजेपी नेता अर्जुन मुंडा तीन बार सीएम पद की शपथ ले चुके हैं।

सीएम पद की शपथ लेने के बाद हेमंत सोरेन की अध्यक्षता में कैबिनेट की बैठक आयोजित की गई। बैठक में 8 जुलाई को विधानसभा के विशेष सत्र आहूत करने का निर्णय लिया गया। हेमंत सोरेन सदन का विश्वास मत प्राप्त करेंगे।

हेमंत सोरेन के इस शपथ को इसलिए भी खास माना जा रहा है कि 31 जनवरी को जिस राजभवन से उनकी गिरफ्तारी हुई थी, 156 दिन बाद दोबारा फिर से उन्होंने वहीं शपथ ली। हेमंत सोरेन इसे अपनी जीत और बीजेपी के षड्यंत्र की हार बता रहे हैं।

शपथ ग्रहण के बाद हेमंत सोरेन ने कहा कि वर्तमान महागठबंधन की सरकार ने 2019 से जनता की भावनाओं के अनुरूप सारी कार्य योजनाएं कीं। राजनीतिक उतार-चढ़ाव के बीच चंपाई सोरेन ने उसे आगे बढ़ाया क्योंकि मैं जेल में था। आज कोर्ट के आदेश से मैं बाहर आ पाया हूं। पुन: अपने कार्यभार को संभालते हुए अब आगे के काम किए जाएंगे।

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की पत्नी कल्पना सोरेन ने कहा- जनता, पार्टी कार्यकर्ता सबकी शुभकामनाएं है और हाईकोर्ट के आदेश का पालन करते हुए हेमंत सोरेन फिर से झारखंड के मुख्यमंत्री के रूप में और तेजी से कार्य करेंगे... गांडेय मेरी प्राथमिकता है और रहेगी।

पूर्व मुख्यमंत्री चंपाई सोरेन ने कहा- हेमंत सोरेन को नई सरकार के गठन के लिए मैं बधाई देता हूं। हमें पूरी उम्मीद है कि वे सभी कार्यों को पूरा करेंगे।

झारखंड के राज्यपाल सी.पी. राधाकृष्णन ने कहा- यदि आप संविधान के अनुसार चलें, तो संविधान हम सभी से गरीबों की समस्या का समाधान करने की अपेक्षा करता है, यही अपेक्षा मेरी नई सरकार से भी है।

JMM सांसद महुआ माजी ने कहा- झारखंड मुक्ति मोर्चा एक परिवार है कोई पार्टी नहीं, परिवार के तमाम सदस्य मिलकर सरकार चलाते हैं और जनता के लिए काम करते हैं। पहले भी अच्छा काम किया है, चंपाई सोरेन ने भी अच्छा काम किया और अब फिर से हेमंत सोरेन अच्छा काम करेंगे। जिस तरह से बिना किसी सबूत के ED ने उन्हें गिरफ्तार किया, उनके परिवार और जनता को दुख पहुंचा, ऐसे में जबसे आए हैं तो लोगों में बहुत खुशी है। उन्होंने विकास के प्रति जो सपने देखे हैं वह पूरे होंगे, तेजी से विकास होगा।

 

मंत्रियों के चेहरे पर अभी तक नहीं बन पाई है सहमति

राजभवन में आयोजित शपथ ग्रहण समारोह में अकेले हेमंत सोरेन को राज्यपाल सीपी राधाकृष्णन ने सीएम पद की शपथ दिलाई। उनके साथ कैबिनेट के किसी मंत्री ने शपथ नहीं ली है। सूत्रों की माने तो मंत्रियों के नाम अभी तक तय नहीं हो पाए हैं। ऐसे में इस बात के संकेत मिल रहे हैं कि तीन महीने के लिए हेमंत कैबिनेट में नए चेहरे को भी जगह मिल सकती है। अगले एक से दो दिनों में इनके नाम फाइनल होने की संभावना है।

Share this story