12 दिनों से बंद है ई-दिशा केंद्र, जमीन की फर्द से लेकर हर कार्य रूका

newspoint24.com/newsdesk

जींद । उपमंडल के ई-दिशा केंद्र में कार्यरत महिला कर्मचारी खटकड़ गांव की भतेरी देवी के सुसाइड करने के बाद पुलिस जांच के चलते 12 दिनों से ई-दिशा केंद्र बंद है। ई-दिशा केंद्र के बंद होने के चलते यहां पर जमीन की फर्द निकलवाने से लेकर आरसी, ड्राईविंग लाइसेंस सहित अन्य कार्य लोगों के रूके हुए है।

बता दें कि 31 दिसंबर की रात को ई-दिशा केंद्र में कार्यरत महिला कर्मी भतेरी देवी द्वारा अपने खटकड़ गांव में मकान पर सुसाइड कर लिया था। सुसाइड नोट के अलावा वो वाइस रिकोर्डिग भी छोड़ गई थी। इसमें यहां पर बनने वाले ड्राईविंग लाइसेंस सहित अन्य कार्य में गड़बड़ी होने की बात सुसाइड नोट में लिखी। सुसाइड करने के लिए कई कर्मचारियों द्वारा मजबूर करने के आरोप भी सुसाइड नोट, वाइस रिकोर्डिग में लगाए थे। इस पर उचाना पुलिस द्वारा एसडीएम सहित 12 के खिलाफ आत्महत्या के लिए मजबूर करने सहित विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू की गई। इस मामले में जांच के लिए पुलिस द्वारा एसआईटी भी गठित की है।   

वीरेंद्र, विकास, धर्मबीर, मनोज ने कहा कि 12 दिनों से ई-दिशा केंद्र बंद रहने से उनके फर्द निकलवाने सहित अन्य कार्य रूके हुए है। यहां पर जब लोग आते है तो ई-दिशा केंद्र बंद रहने से वापिस चले जाते है। बंद ई-दिशा केंद्र को खोला जाए ताकि लोगों को परेशानी का सामना न करना पड़े। लोगों को रजिस्ट्री करवाने, जमीन का इंतकाल, फर्द निकलवाने सहित अन्य कार्य को लेकर परेशानी हो रही है। 

डीसी डा. आदित्य दहिया ने बताया कि ई-दिशा केंद्र में कार्य करने वाली महिला कर्मी के सुसाइड की जांच के चलते ई-दिशा केंद्र बंद है। इस मामले की पुलिस निष्पक्षता से जांच कर रही है।  एक, दो दिन में यहां पर नए एसडीएम आने के बाद ई-दिशा केंद्र का कार्य सुचारू रूप से शुरू किया जाएगा।

Share this story